Environment me Career Kaise Banaye : अगर आपकी रुचि प्रकृति मे है, तो बनाए पर्यावरण प्रदूषण मे करियर

0
107

दुनिया मे पर्यावरण का स्तर दिन प्रतिदिन  खराब होता जा रहा है।  इसका सबसे बड़ा कारण है। भारी मात्र मे सड़कों पर वाहन का चलना और फ़ैक्टरियों से निकलने वाला धुआ 

और पेड़ों की कटाई इत्यादि यही कारण है , की इन समस्याएँ की वजह से ग्लोबल वार्मिंग , वायु , जल , और भूमि पूरी तरह से प्रदूषण से घिरी हुई है। जिसको बचाना एक बहुत बड़ी चुनौती है। 

जिस प्रकार से दुनिया मे  प्रदूषण लगातार तेजी से बढ़ रहा है , यही कारण है।  पर्यावरण संरक्षण  के क्षेत्र मे जॉब के नए नए अवसर पैदा हो रहे है । आज हम आपको इस लेख मे पर्यावरण प्रदूषण से जुड़े एक उभरते हुए करियर के बारे मे संपूर्ण जानकारी देने वाले है। 

अगर आपको पर्यावरण से जुड़े कार्यों को करने मे रुचि है, तो यह करियर आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। इस लेख मे हम आपको बताने वाले है कि पर्यावरण प्रदूषण क्या है ? पर्यावरण प्रबंधन मे करियर कैसे बनाए  environment me career kaise banaye एंवयरमेंटल इंजीनियर कैसे बने environment me career kaise banaye एंवयरमेंटल साइंटिस्ट कैसे बने environmental scientist kaise bane

प्रदूषण का प्रभाव 

दुनिया को डिजिटल बनाने के चक्कर मे ज्यादा से जायद पेड़ पौधे काटे जा रहे है। जिसके कारण Environment मे कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा बढ़ती जा रही है। दुनिया मे प्रदूषण की कमी को पूरा करने के लिए सभी देश आपस मे मिलकर पर्यावरण को साफ सुथरा करने मे लगे हुए है।

लेकिन इसके बावजूद भी दुनिया वेशविक स्तर पर बढ़ती आबादी , पृथ्वी के बढ़ते हुए तापमान , और जल वायु और अन्य कई तरह के प्रकार्तिक संसाधन के बढ़ते प्रदूषण की गंभीर समस्या से जूझ रही है। जाहिर है की इसे रोकने और पर्यावरण कि संरक्षित करने कि लिए कई स्तरों पर कार्य करने की जरूरत है। 

इस दौर मे विकास और पर्यावरण Environment के बीच सही तालमेल करने की जरूरत है। जिसमे पर्यावरण प्रबंधन और प्रकृति के लिए कुछ करने का जज्बा है और आप अपने करियर के लिए भी जागरूक है, तो पर्यावरण प्रबंधन का करियर आपके लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है, जैसे कि आज शहरी क्षेत्रों मे अलग अलग तरह के प्रदूषण और कूड़ा- कचरा जैसी समस्या प्रमुख है। इनसे निपटने के लिए पर्यावरण प्रबंधन की मांग आने वाले समय मे और तेजी से बढ़ने कि उम्मीद है। 

पर्यावरण प्रबंधन क्या है Environmental Management Kya Hai

पर्यावरण प्रबंधन के अंतर्गत छात्रों को प्रकृति के साथ समन्वय बनने , बढ़ते प्रदूषण को रोकने और उसका समाधान खोजने के बारे मे अध्ययन करना पड़ता है। इसके साथ ही पर्यावरण की चुनोतिया का किस तरह हल निकालना है।  इस प्रकार की तमाम जानकारियों का अध्ययन किया जाता है ताकि आप आसानी से चुनोति यों का सामना कर सको। 

पर्यावरण प्रदूषण environmental pollution के अंतर्गत मूल रूप से प्रकृतिक ऊर्जा के संरक्षण जलवायु परिवर्तन भू- जल वायु और जल प्रदूषण आधोगिक प्रदूषण आदि का अध्ययन कराया जाता है। 

और आपको पर्यावरण मे सुधार करने के तरीके भी बताए जाते है, ताकि आप इनका इस्तेमाल करके पर्यावरण मे सुधार कर सको। 

इसे भी पढे : – जियोलॉजी में करियर कैसे बनाये

पर्यावरण प्रबंधन के पाठ्यक्रमों के माध्यम से जनसंख्या की विभिन्न गतिविधियों के प्रकृति पर पड़ने वाले प्रभाव से छात्रों को परिचित कराकर उसके समाधान के लिए उचित प्रशिक्षण व जानकारी दी जाती है। 

योग्यता Qualification

अगर  आप अपना करियर पर्यावरण प्रबंधन के क्षेत्र मे बनाना चाहते है, तो आपको अपनी बारहवीं की परीक्षा की कम से कम 50 फीसदी अंकों के साथ पास करना अनिवार्य है। उसके बाद आप , फ़िज़िक्स , केमिस्ट्री , जीव विज्ञान , प्राणी शास्त्र , भूगोल जैसे विषयों के साथ ग्रेजुएशन करके पर्यावरण प्रबंधन के स्पेशल कोर्स मे दाख़िला ले सकते है,लेकिन अगर आपने पर्यावरण प्रबंधन से ग्रेजुएशन किया हुआ है, तो आपके लिए यह विशेष योग्यता जरूरी नहीं है।  

इसे भी पढे :- विदेशी भाषा मे करिअर कैसे बनाए ?

पर्यावरण प्रबंधन का कोर्स ग्रेजुएट बीबीए और पोस्ट ग्रेजुएट स्तर पर भी उपलब्ध है आप चाहे तो इसका भी लाभ ले सकते है।  

पर्यावरण प्रबंधन विषयों मे आप कॉर्पोरेट पर्यावरण प्रबंधन , ऊर्जा और पर्यावरण , जैविक उपचार , जीआई एस और पर्यावरण , वन संसाधन प्रबंधन , औधोगिक परिस्थिति और जलवायु परिवर्तन इत्यादि विषयों का विस्तार से अध्ययन कराया जाता है।  

जॉब के अवसर 

इस करियर मे आपके लिए जॉब के अवसर दूसरी करियर से कही ज्यादा है, क्योंकि इस क्षेत्र मे ज्यादा कॉमपीटीशन नहीं है। इस क्षेत्र मे जॉब के बहुत सारे अवसर मौजूद है, इसका सबसे बड़ा कारण है,कि इस क्षेत्र का चुनाव बहुत कम युवा करते है। जिसके कारण इस क्षेत्र मे पढ़ाई मे करने वाले  ज्यादातर युवाओं को जॉब मिल जाती है। 

इसलिए इस क्षेत्र की पढ़ाई करने के बाद जॉब की चिता बिल्कुल भी न करे बस आप पर्यावरण से जुड़ी जानकरिया अच्छे से प्राप्त करे। पर्यावरण से जुड़े विषयों मे पढ़ाई करने के बाद विधार्थी उद्योग , उर्वरक संयंत्र , खदाने , रिफ़ाइनरी कपड़ा मिलों , इत्यादि क्षेत्रों मे जॉब प्राप्त कर सकता है।

इसे भी जरूर पढे :- भूगोल मे करियर कैसे बनाए ?

यही नहीं आप अनुसंधान और विकास क्षेत्र , वन और वन्य जीव प्रबंधन , गेर सरकारी संगतनो , प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड , शहरी नियोजन विभाग , जल संसाधन , और कृषि विभाग , माइंस फर्टिलाइजर प्लांट्स , फूड प्रोसेसिंग इंदस्तरिवेस्ट , ट्रीटमेंट इंडस्ट्री , टेक्सटाइल मील इत्यादि मे भी आपको आसानी से जॉब मिल सकती है।  इसके साथ ही सार्वजनिक संस्थानों , पर्यावरण और वन मंत्रालय , वेशविक संस्थानों जैसे वर्ल्ड स्वास्थ्य संगठन खाद एवं कृषि  संगठन मे भी  आपको जॉब मिल जाती है।  

पर्यावरण क्षेत्र की जिम्मेदारिया 

अधोगिक स्थायी विकास को सुनिश्चित करने के लिए पर्यावरण की नीतियों और कार्य योजना और का विकास और उन पर अमल करना, प्रदूषण नियंत्रण, अपशिष्ट प्रबंधन पुन चरण और रिनएबल एनर्जी के सभी पहलुओं को उनमें साथ लेते हुए पर्यावरण नीतियों के कार्यनवनी की योजना बनाना, पर्यावरण कानून का अनु-पालन सुनिश्चित करना , स्थानीय या सार्वजनिक निकायों के साथ संपर्क कर पर्यावरण के मुद्दों पर कर्मचारियों को प्रशिक्षित करना पर्यावरण प्रबंधन , प्रणालियों को विकसित और कार्यान्वित करना आदि.

इसे भी जरूर पढे :- आर्टस मे करियर कैसे बनाए ?

इस क्षेत्र के प्रबंधन की प्रमुख जिम्मेदारिया है।  इतना ही नहीं पर्यावरण प्रबंधन मे मास्टर्स डिग्री लेने के बाद पूरी दुनिया मे अवसर खुल जाते है। 

जॉब के पद 

  • पर्यावरण वैज्ञानिक 
  • पर्यावरण कार्यकर्ता 
  • पर्यावरण सलाहकर 
  • वन और वन्य जीव प्रबंधक 
  • पर्यावरण रिसर्चर 
  • जियो साइंटिस्ट 
  • कंजर्वेशनिस्ट 

वेतन 

दुनिया मे तेजी से बढ़ते हुए प्रदूषण के कारण पर्यावरण प्रबंधन की मांग तेजी से बढ़ती जा रही है।  इसलिए अगर आपको  इस क्षेत्र की अच्छी जानकारी है,  तो शुरुआत से  ही आपको अच्छे वेतन मिलनी की संभावनाए रहती है। अगर हम शुरुआती सालाना पैकेज की बात करे तो आपको तीन से पाँच लाख रुपये आसानी से मिल जाते है। 

इसे भी जरूर पढे :- फायर इंजीनियर कैसे बने?

लेकिन अगर आपको इस क्षेत्र का अच्छा अनुभव हो जाता है तो, आप एक एड्वाइजर के रूप मे भी कार्य कर सकते है। पाँच से सात वर्ष के अनुभव के बाद आपको 10 से बीस लाख रुपये सालाना आसानी से मिल जाते है। 

पर्यावरण कोर्स संबंधी देश के कुछ प्रमुख संस्थान 

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एंवयरमेंट मेनेजमेंट , मुंबई 
  • राजीव गांधी परोधोगिकी यूनिवर्सिटी , इंडोर 
  • लखनऊ यूनिवर्सिटी , लखनऊ
  • जामिया मिलिया इसलमिया , नई दिल्ली 
  • जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी , नई दिल्ली 
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी , वाराणसी 
  • नेशनल रिमोट सेन्सिंग इंस्टिट्यूट देहरादून 
  • मोतीलाल नेहरू नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इलाहाबाद 

इसे भी जरूर पढे :- खुफिया विभाग मे करियर कैसे बनाए

लेख मे आपने क्या सीखा 

दोस्तों इस लेख मे हमने आपको पर्यावरण प्रदूषण से संबंधित एक तेजी से उभरते हुए करियर के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी दी है, ताकि कोई भी युवा इस क्षेत्र मे आसानी से करियर बना सके। इस लेख मे हमने आपको बताया है, कि पर्यावरण प्रबंधन मे करियर कैसे बनाए  environment me career kaise banaye एंवयरमेंटल इंजीनियर कैसे बने environment me career kaise banaye एंवयरमेंटल साइंटिस्ट कैसे बने environmental scientist kaise bane इत्यादि 

इसे भी जरूर पढे :- प्रोफेशनल फोटोग्राफर कैसे बने

अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है, तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट बॉक्स मे बता सकते है.अगर इस जानकारी को लेकर अपका किसी प्रकार का सवाल है तो आप कमेन्ट बॉक्स मे पूछ सकते है और इस जानकारी को दूसरे लोगों के साथ भी शेयर करे ताकि उन्हे भी इस करियर मे बारे मे पता चल सके 

धन्यवाद 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here