Statistics Kaise Bane : आकड़ों मे है, रुचि तो बनाए स्टेटिस्टिक्स मे करियर

आज के समय मे आर्थिक जगत ही नहीं प्रत्येक क्षेत्रों मे आकड़ों पर आधारित नीतिगत निर्णय लिए जाने का दौर है। इसलिए अगर आपकी पकड़ डेटा और डेटा एनलिसिस पर अच्छी है, तो स्टेटिस्टिक्स के क्षेत्र मे आपके लिए देश और विदेश मे अच्छे अवसर मौजूद है। इसलिए वर्तमान ही नहीं आने वाले भविष्य मे भी इस क्षेत्र मे रोज़गार के अवसर की कमी नहीं रहने वाली है।

अगर कोई भी छात्र स्टेटिस्टिक्स के क्षेत्र मे अपना करियर बनाने की सोच रहा है तो इस  लेख  को अंत तक पढे क्योंकि इस लेख मे हम आपको पूरी जानकारी देने वाले है कि स्टेटिस्टिक्स क्या है ,Statistics Kya Hai स्टेटिस्टिक्स मे करियर कैसे बनाए Statistics Me Career Kaise Banaye स्टेटिस्टिक्स कोर्स कैसे करे, Statistics Course Kaise Kare, स्टेटिस्टिक्स कैसे बने Statistics Kaise Bane इत्यादि

स्टेटिस्टिक्स कैसे बने Statistics Kaise Bane

स्टेटिस्टिक्स Statistics असल मे एक ऐसी गणितीय विधि है जिसमे नयूमेरिकल डेटा जुटाने , विश्लेषण , प्रस्तुतीकरण जैसे कार्य बहुत प्रभावी तरीके से किये जाते है। इकोनॉमिक्स मे स्टेटिस्टिक्स  की अहमियत कही ज्यादा है प्रति व्यक्ति आय , बेरोज़गारी , जनसंख्या वृद्धि मापने जैसे अनेकों कार्य करने के लिए स्टेटिस्टिक्स  की मदद ली जाती है।

स्टेटिस्टिक्स डेटा और टेक्निक आधारित आर्थिक समस्याओं के समाधान जैसे वेज प्राइस , टाइम  सीरीज  एनालिसिस और डिमांड एनालिसिस जैसे कार्य किये जाते है।

योग्यता Qualification

स्टेटिस्टिक्स Statistics के क्षेत्र मे करियर शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको आपको अपनी बारहवीं की शिक्षा कॉमर्स या मैथ्स विषय के साथ पास करना अनिवार्य है। उसके बाद छात्र स्टेटिस्टिक्स  मे बेचलर डिग्री या फिर मास्टर्स डिग्री कर सकते है इस क्षेत्र मे मास्टर्स डिग्री से ही छात्रों के लिए अच्छे अवसर खुलते है।

 स्टेटिस्टिक्स संबंधी कुछ कोर्स

कोर्स समय योग्यता
बेचलर ऑफ स्टेटिस्टिक्स ऑनर्स 3 वर्ष मैथ्स व इंग्लिश के साथ 10 +2
बेचलर ऑफ मेथामेटिक्स ऑनर्स3 वर्षमैथ्स व इंग्लिश 10+ 2
मास्टर्स ऑफ स्टेटिस्टिक्स 2 वर्ष ग्रेजुएशन तीन वर्ष , या बीई / बीटेक स्टेटिस्टिक्स  विषय के साथ या बीएस-सी मैथ्स या पीजी डिप्लोमा
मास्टर्स ऑफ मेथामेटिक्स2 वर्षग्रेजुएशन मैथ्स से तीन वर्ष या बीई / बीटेक ( मैथ्स )
मास्टर्स ऑफ साइंस इन क्वान्टईटेटीव इकोनॉमिक्स2 वर्षग्रेजुएशन तीन वर्ष मैथ्स के साथ बारहावी पास होना अनिवार्य
मास्टर्स ऑफ साइंस इन लाइब्रेरी एंड इनफॉर्मेशन साइंस2 वर्ष किसी भी विषय मे ग्रेजुएशन डिग्री अनिवार्य
पीजी डिप्लोमा इन स्टेटिस्टिक्स  मेथड एंड एनलिटिक्स1 वर्षमैथ्स के साथ ग्रेजुएशन या बी बीटेक
मास्टर्स ऑफ टेक्नोलॉजी इन कंप्युटर साइंस2 वर्षयोग्यता मैथ्स / स्टेटिस्टिक्स  / फ़िज़िक्स / कंप्यूटर साइंस / कंप्यूटर एप्लीकेशन मे मास्टर डिग्री या बीई / बीटेक
मास्टर्स ऑफ टेक्नोलॉजी इन क्वालिटी , रिलाएबिलिटी एंड ऑपरेशन रिसर्चस्टेटिस्टिक्स  मे मास्टर्स डिग्री ( फ़िज़िक्स व केमिस्ट्री के साथ बारहावी पास होना अनिवार्य )
पीजी डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एंड रुरल मैनेजमेंट विद स्टेटिस्टिक्स  मेथड एंड एनलिटिक्सकिसी विषय मे ग्रेजुएशन के साथ बारहावी मे मैथ्स स्टेटिस्टिक्स  जरूरी

दाख़िला प्रकिरीय Admission Process

देश के अंदर साठ से यूनिवर्सिटियों मे स्टेटिस्टिक्स  से संबंधित कोर्स कराए जाते है इस क्षेत्र मे उच्च शिक्षा की पढ़ाई करने के लिए इंडियन स्टेटिस्टिकल इंस्टिट्यूट को सर्वोच्च संस्थान माना गया है।

जिसका हेड क्वार्टर कोलकाता मे है, लेकिन इस इंस्टिट्यूट के केम्पस दिल्ली , बैंगलोर , चेन्नई मे भी है जिनमे दाख़िला लेने के लिए आपको एनट्रान्स एग्जाम से होकर जाना पड़ता है। स्टेटिस्टिक्स  मे एमफिल या पीएचडी की डिग्री लेने के लिए भी आपको एन्ट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है।

इसे भी जरूर पढे :- देश विदेश के आर्थिक मुद्दों मे है ,रुचि तो अर्थशास्त्र मे करिअर बनाए।

स्टेटिस्टिक्स मे जॉब संबंधी पद

स्टेटिस्तशियनकंसल्टेंटप्रोफेसर रिस्क एनलिटिक्स
डाटा एनलिटिक्सबिज़नेस एनलिटिक्समेथमेटीशियन
डाटा साइंटिस्टबायो स्टेटिशियन

रोजगार के अवसर

इस क्षेत्र से जुड़े कोई भी कोर्स करने के बाद छात्रों के लिए रोज़गार के भरपूर अवसर है। जिसमे आपको सरकारी व प्राइवेट दोनों क्षेत्रों मे आसानी से जॉब मिल जाती है । इस क्षेत्र से जुड़े कोर्स करने वाले छात्रों का सबसे बड़ा फायदा ये है कि जो भी विधार्थी ये कोर्स करता है। उसे जॉब मिलने के 90 प्रतिशत चांस होते है। इसका कारण यह है, कि इस क्षेत्र मे बहुत ही कम छात्र रुचि रखते है। इसलिए जो भी छात्र स्टेटिशियन कोर्स से जुड़ा कोई भी कोर्स करते है उनके जॉब मिलने के चांस बहुत ज्यादा रहती है।

सरकारी क्षेत्र

सरकारी क्षेत्रों मे आपको जनगणना से जुड़े कार्य करने हो या आधिकारिक नीतियों का निर्धारण करना हो अधिकतर सरकारी एजेंसियों आकड़ों के आधार पर ही निर्णय लेती है। ऐसे मे अगर आपको स्टेटिस्टिक्स मे एम-एससी या ग्रेजुएशन किया हुआ है, तो आप सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते है।

इसे भी जरूर पढे :- विदेशी भाषा मे करिअर कैसे बनाए ? विदेशी भाषा मे करिअर कैसे बनाए ?

जनगणना से जुड़े कार्यों को करने के लिए भी स्टेटिस्टिक्स की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। चुनाव आयोग से जुड़े कार्य करने के लिए आपकी नियुक्ति हो सकती है। इसके अलावा आर्थिक सर्वे और अन्य सरकारी परियोजनाओं को मुकाम तक पहुँचाने के लिए स्टेटिशियन अहम भूमिका निभाता है किसी सर्वेक्षण को करने के लिए तीन से चार स्टेटिसतशीयन की जरूरत होती है। रिसर्च फील्ड और मार्केटिंग फील्ड मे काम करने वालों को देश से विदेश तक काम करने के भी अवसर मिलते है।

बैंकिंग सेक्टर

बैंकिंग के क्षेत्र मे भी स्टेटिस्टिक्स करने वालों छात्रों के लिए रोज़गार के अच्छे अवसर मौजूद है क्योंकि बैंकिंग मे सांख्यनकी का जमकर उपयोग होता है जमा राशि , कर्ज , ब्याज ये सही मूलभूत और बैंकों की अन्य आर्थिक गतिविधियों सांख्यनकी आधारित ही होती है। इसी तरह अकाउंटिंग का काम भी संख्यांकि के सिद्धांतों पर होता है।

इसे भी जरूर पढे :- कंप्युटर साइंस इंजीनियर कैसे बने

कंप्यूटर  , टेक्नोलॉजी ,

डिजिटल टेक्नोलॉजी मे डेटा साइंटिस्ट आंकड़ों को व्यवसाय के मूल्यवान जानकारी मे परिवर्तित करते है। आंकड़ों का विश्लेषण करने मे उचित एल्गोरिथ्म और ,मॉडल का चयन और निर्माण करते है सॉफ्टवेयर निर्माण मे सिस्टम एनालिस्ट के रूप मे संख्यांकि छात्रों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है ज्यादातर यूनिवर्सिटीज और कॉलेजों मे डेटा साइंस मे डिप्लोमा कराया जाता है। डेटा साइंटिस्ट की कंम्पनियों मे माफी डिमांड है।

टीचिंग क्षेत्र

अगर आप स्टेटिस्टिक्स मे टीचिंग प्रोफेशनल मे जाना चाहते है तो आप स्टेटिस्टिक्स मे पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद यूजीसी ने  नेट एग्जाम या राज्य या केंद्र सरकार की भर्ती परीक्षाओ को पास करके भी आप शिक्षक या प्रोफेसर बन सकते है।

इसे भी जरूर पढे :- मनी लेंडिंग मोबाइल ऐप्स लोन से कतई लोन न लें

हेल्थ  केयर

इस क्षेत्र से जुड़े कोर्स करने के बाद छात्रों के लिए स्वास्थ्य और जैव सांख्यनकी के क्षेत्र मे भी ढेरों अवसर मौजूद है। इस क्षेत्र मे कार्य करने वालों को बायोस्टेटिसटीशियन या बायोमीटरिशियन कहते है। गणित और आकड़ों के प्रयोग द्वारा जीवित वस्तुओ के जैव गुणों के वर्णन और वर्गीकरण बायोमीट्रिक्स कहलाता है।

जैव सख्यानकी मे चिकित्सा अनुसंधान के दौरान संग्रहित चीजों से संबंधित आकड़ों का विश्लेषण करना होता है। चिकित्सा अनुसंधान के लिए इसी के आधार पर कोई अनुमान या नतीजा तय किया जाता है। जिसके लिए जीव विज्ञान और सख्यानकी दोनों की जानकारी होना आवश्यक है। चिकित्सा क्षेत्र मे बायोमीट्रिक्स की मांग तेजी से बढ़ती जा रही है।

दूसरी स्किल 

  • स्टेटिस्तशियन बनने के लिए छात्रों मे विश्लेषण अक्षमता , मैथ्स स्किल , प्रॉबलम सोल-विंग स्किल जरूरी होनी चाहिए।
  • इस क्षेत्र मे बेहतर करियर बनाने के लिए छात्रों को गणना करना मे रुचि होना जरूरी है ताकि लंबे समय तक काम करते हुए उन्हे बोरियत महसूस न हो।
  • छात्रों को एकांत मे काम करना अच्छा लगता हो क्योंकि कई बार आकड़ों को हल करने के लिए एकाग्रता की जरूरत होती है।
  • छात्रों के अंदर कम समय मे विभिन्न पहलुओं के ज्यादा से ज्यादा निष्कर्ष निकालने की क्षमता होनी चाहिए।
  • इस क्षेत्र का ज्यादातर कार्य आकड़ों गणनाओ से जुड़ा हुआ है। इसलिए छात्रों  का विवेकशील होना बेहद जरूरी है क्योंकि जल्दबाजी मे गलत स्टेटिस्टिकल टूल के इस्तेमाल से आपको गलत परिणाम मिल सकते है।

इसे भी जरूर पढे :- सेल्स मार्केटिंग में करियर कैसे बनाये

वेतन  Salary

स्नातक और पोस्ट ग्रेजुएशन करने वाले छात्रों  को निजी कंम्पनियों मे तीन से पाँच लाख रुपये सालाना तक मिल जाते है, जैसे जैसे आपका अनुभव बढ़ता जाता है। आपकी सेल-री भी बढ़ती जाती है। पाँच से सात वर्ष के अनुभव के बाद आपकी सैलरी 70 से एक लाख रुपये प्रति माह तक भी जा सकती है।

लेख मे आपने क्या सीखा

दोस्तों इस लेख मे हमने आपको अर्थ शास्त्र  से जुड़े एक तेजी से उभरते हुए कोर्स के बारे मे संपूर्ण जानकारी दी है, ताकि अर्थ शास्त्र मे रुकी रखने वाले विधार्थी इस क्षेत्र मे कदम बढ़ा सके इस लेख मे हमने आपको बताया है कि स्टेटिस्टिक्स क्या है ,Statistics Kya Hai स्टेटिस्टिक्स मे करियर कैसे बनाए Statistics Me Career Kaise Banaye स्टेटिस्टिक्स कोर्स कैसे करे, Statistics Course Kaise Kare, स्टेटिस्टिक्स कैसे बने Statistics Kaise Bane इत्यादि।

अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है, तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट बॉक्स मे बता सकते है। इस जानकारी को दूसरे विधारथियों के साथ भी शेयर करे ताकि दूसरे विधारथियों को इस नए करियर अवसर के बारे मे सही और सटीक जानकारी मिल सके।

इसे भी जरूर पढे :- फाइनेंसियल एडवाइजर कैसे बने।

इसके करियर विकल्प के अलावा अगर आप किसी भी प्रकार के दूसरे करियर विकल्प के बारे मे संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमे कमेन्ट बॉक्स मे बताए हम आपको पूरी सहायता करेंगे। धन्यवाद 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here