Ayurvedic Doctor Kaise Bane : बारहवी करने के बाद बने, आयुर्वेदिक डॉक्टर

Ayurvedic Doctor Kaise Bane ultimate guider
Ayurvedic Doctor Kaise Bane ultimate guider

आयुर्वेद एक प्राचीन चिकित्सा पद्धति है, जो भारत में लगभग पिछले पांच हजार वर्षो से प्रयोग में है।  आयुर्वेद का शाब्दिक अर्थ जीवन का विज्ञान है। आयुर्वेद एक प्राचीन भारतीय विज्ञान है , जिसे शरीर के तीन दोषो वात , पित्त और कफ और मन के दो दोषों रज और तम के आधार पर लोगों का इलाज करता है।

आयुर्वेद के अनुसार इन्द्रियाँ , मन , शरीर  और आत्मा का एक संयोजन है। आयुर्वेद का प्रमुख उद्देश्य मनुष्य के स्वास्थ्य को बनाए रखना है, ताकि उनका लम्बी आयु के बाद भी स्वास्थ्य बना रहे।  आयुर्वेद  की इस प्रक्रिया को दुनिया की एक बेहतरीन तकनीक माना जाता है।

आज हम आपको  इस लेख  में आयुर्वेद से जुड़े इसी कैरियर विकल्प के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले है कि आयुर्वेद क्या है ? Ayurveda Kya Hai आयुर्वेद में करियर कैसे बनाये ? आयुर्वेद डॉक्टर कैसे बने Ayurvedic Doctor Kaise Bane इत्यादि अगर आप भी इस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते है तो यह लेख आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है इसे अंत तक जरूर पढ़े ?

आयुर्वेद चिकित्सा के लाभ 

  • आयुर्वेद चिकित्सा दूसरी चिकित्सा से मुकाबले काफी सस्ती है, क्योंकि इस चिकित्सा में जड़ी बूटियाँ एवं मसालों का इस्तेमाल किया जाता है।
  • आयुर्वेद  न केवल रोगो का इलाज करता है, बल्कि रोग को दोबारा होने से भी रोकता है।  यानि कि किसी भी रोग का जड़ से इलाज करने के लिए यह तकनीक कारगार है |
  • अगर देखा जाए तो अंग्रेजी दवाइयों की तुलना में आयुर्वेदिक इलाज के साइड इफेक्ट नहीं है |

आयुर्वेद की शाखाये 

  • अगद तंत्र  मेडिकल ज्यूरिस्प्रूडेंस एंड टॉक्सिंस कोलीजी
  • द्रव्य गुण मटेरिया मेडिका एंड फार्माकोलॉजी
  • काया चिकित्सा इंटरनल मेडिसिन
  • बाल रोग पीड़ियाट्रिक्स
  • पंचकर्म पेंटा बायो प्यूरिफिकेशन मेथड
  • प्रसूति एवं स्त्री रोग ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी
  • लेटरोकेमिस्ट
  • विकृति विज्ञान पैथोलॉजी
  • शालाक्य तंत्र आई एंड ई एन टी
  • शल्य तंत्र सर्जरी
  • शरीर क्रिया फिजियोलॉजी
  • शरीर रचना एनाटोमी स्वस्थ व्रत प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन

योग्यता 

जिस प्रकार आयुर्वेद से अलग डॉक्टर बनने के लिए एक योग्यता की जरूरत होती है।  ठीक उसी प्रकार आयुर्वेद का डॉक्टर बनने के लिए भी एक योग्यता की जरूरत होती है। 12वीं के बाद हैं साइकॉलजी मे करियर बनाने के शानदार मौके

अगर आप आयुर्वेद के क्षेत्र में अपना करियर बनाने की सोच रहे है, तो सर्वप्रथम आपको अपने बारहवीं की परीक्षा साइंस स्ट्रीम यानि कि फ़िज़िक्स , केमिस्ट्री , बॉयोलॉजी जैसे विषयों से पास करनी होगी ,वो भी पचास प्रतिशत अंकों के साथ ,उसके बाद आप आयुर्वेद से जुड़े ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन जैसे कोर्स कर सकते है।

आयुर्वेद संबंधी कोर्स 

बेचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी ,ग्रेजुएशन स्तर पर बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक चिकित्सा कोर्स यह साढ़े पांच वर्ष का कोर्स होता है इसमें एक वर्ष की इंटर्नशिप भी शामिल है।  देश के ऐसे बहुत से कॉलेज है।  जंहा से आप यह कोर्स कर सकते है।  इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप आयुर्वेद के क्षेत्र में मास्टर्स कोर्स भी कर सकते है जैसे कि एमडी इन आयुर्वेद या एमएस इन आयुर्वेद इत्यादि।  इसे भी जरूर पढे :- डेन्टिस्ट कैसे बने ?

आयुर्वेद में दो वर्ष का पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा भी है डिप्लोमा कोर्स में छात्र पंचकर्म , क्षार कर्म , आयुर्वेदिक फार्मास्युटिक्स , त्वक रोग , आयुर्वेदिक डाइटेटिक्स स्वास्थ्य वृत्त एवं योग , प्रसूति एवं स्त्री रोग , बाल रोग , आयुर्वेदिक फार्मा कॉग्नोसी , मानकीकरण , मानसिक स्वास्थ्य , नेत्र रोग विज्ञान , रसायन एवं वाजीकरण ,  आयुर्वेदिक संज्ञाहर , छाया एवं विकिरण विज्ञान , मर्म एवं अस्थि चिकित्सा , आर्थोपेडिक रोग निदान विधि नैदानिक तकनीक , इत्यादि क्षेत्रों में आप स्पेशलिस्ट भी बन सकते है।

आयुर्वेद मे छात्रों को मनुष्य से जुड़े आचार विचार , खान पान रहन सहन का संपूर्ण प्रशिक्षण दिया जाता है।  इसे भी जरूर पढे : मेडिकल से जुड़े करियर ऑप्शन जिनमे आप करियर बना सकते है ?

रोजगार के अवसर 

आयुर्वेद का क्षेत्र आज भी उतना ही कारगर है। जितना पहले हुआ करता था।  इसलिए इस क्षेत्र मे रोजगार के भरपूर अवसर है। अगर को। ई भी छात्र आयुर्वेद के क्षेत्र मे कदम बढ़ाता है, तो उसके पास रोजगार की कमी नहीं होगी।

इसका सबसे बड़ा कारण यह भी है कि इस क्षेत्र मे बहुत ही कम युवा कदम बढ़ाते है।  ऐसे मे जो भी छात्र आयुर्वेद से जुड़ा कोई भी कोर्स करता है।  उनके जॉब मिलने के ज्यादातर चांस रहते है। इसे भी जरूर पढे : नर्सिंग मे करियर कैसे बनाए ।

आयुर्वेद के क्षेत्र में छात्रों को सरकारी अस्पताल , प्राइवेट अस्पताल , क्लिनिक , नर्सिंग होम , औषधालयों , स्वास्थ्य विभाग ,एवं फार्मास्युटिकल जैसी जगहों पर आसानी से जॉब मिल जाती है। इसके अलावा आप आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर भी बन सकते है। यही कारण है कि आयुर्वेदिक के क्षेत्र में छात्रों का भविष्य उज्ज्वल है। इसे भी जरूर पढे : ईसीजी टेकनीशियन कैसे बने।

अगर आपके पास इस क्षेत्र के अच्छा ज्ञान और अनुभव है, तो आप खुद का आयुर्वेदिक क्लिनिक भी खोल सकते है।

आयुर्वेदिक कोर्स संबंधी देश के कुछ प्रमुख संस्थान 

  • आयुर्वेद यूनानी तिब्बिया कॉलेज करोल बाग नई दिल्ली
  • डॉ बी आर के आर आयुर्वेद कॉलेज हैदराबाद
  • गोपाल बंधु आयुर्वेद महा विश्वविद्यालय ओडिशा
  • अखंडानंद राजकीय आयुर्वेद महा विश्वविद्यालय  अहमदाबाद गुजरात
  • राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज रायपुर छत्तीसगढ़
  • राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज केरल
  • राजकीय आयुर्वेद कॉलेज जालूकबाड़ी गुहावती असंम
  • धन्वंतरि राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज मंगल नाथ उज्जैन
  • राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान जयपुर राजस्थान
  • राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज लखनऊ

लेख मे आपने कोर्स के बारे में क्या सीखा 

इस लेख मे हमने आपको आयुर्वेद से जुड़े एक करियर विकल्प के बारे मे जानकारी दी है ताकि आयुर्वेद मे रुचि रखने वाले आसानी से करियर बना सके।  इसे लेख मे हमने आपको बताया है कि आयुर्वेद  क्या है ? ayurvedic kya hai  आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने ayurvedic doctor kaise bane आयुर्वेद में करियर कैसे बनाए ayurvedic me career kaise banaye  अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते है और इस जानकारी को दूसरे विद्यार्थियों के साथ भी शेयर करे ताकि दूसरे विद्यार्थियों को इस नए करियर अवसर के बारे मे सही और सटीक जानकारी मिल सके। इसे भी जरूर पढे :- मेडिकल लैब टेक्नीशियन कैसे बने |

इस करियर विकल्प के अलावा अगर आप किसी भी प्रकार के दूसरे करियर विकल्प के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमे कमेंट बॉक्स में बताएं हम आपको पूरी सहायता करेंगे। धन्यवाद

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here