Startup Failure Reason Hindi : स्टार्टअप बिजनेस के असफल होने के कुछ बड़े कारण , जिनसे आपको बचना चाहिए।

Startup Failure Reason Hindi
Startup Failure Reason Hindi

ज्यादातर युवा खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं। जिसके कारण पिछले कुछ वर्षों में दुनिया में स्टार्टअप की संख्या तेजी से बढ़ रही हैं। जब एक स्टार्टअप सफल होता हैं तो इससे अनेक रोजगार उत्पन्न होते हैं। लेकिन फेल होने से बेरोजगारों की संख्या बढ़ती हैं।

क्या आप जानते हैं कि दुनिया में जितना स्टार्टअप शुरू होते हैं। उनमें से आधे से ज्यादा स्टार्टअप शुरू होने से पहले ही फ्लॉप हो जाते हैं।

कुछ लोग केवल दूसरे लोगों के सफल स्टार्टअप को देखकर यह सोचते हैं। कि अगर वे भी इसी तरह का स्टार्टअप शुरू करते हैं। तो भी सफल हो जाएंगे।

एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में जितने भी स्टार्टअप शुरू होते हैं उनमें से 90 फीसदी स्टार्टअप शुरू होते ही बंद हो जाते हैं। और दस स्टार्टअप में भी केवल एक स्टार्टअप ही ऐसा होता हैं जिसे आप ख सकते हो कि ये सफल स्टार्टअप हैं।

अगर आप खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं तो आपको इस लेख को दो से तीन बार जरूर पढ़ना चाहिए। कि स्टार्टअप के असफल होने के क्या कारण हैं ( Startup Failure Reason Hindi ) ताकि आप उन गलतियों को करने से बच सको।

स्टार्टअप असफल होने के कुछ बड़े कारण  Startup Failure Reason Hindi

अपने टारगेटिड कस्टमर की समझ न होना

अगर आप किसी भी प्रकार का स्टार्टअप शुरू कर रहे हो तो आपको पहले ही पता होना चाहिए कि आपका प्रोडक्ट किसके लिए , महिला के लिए , पुरुष के लिए , बच्चों के लिए । फिर इसमें भी आपको चुनना होगा कि किस आयु के लोगों के लिए हैं। ग्रामीण क्षेत्र के लिए या शहरी क्षेत्र के लिए

अगर आपको अपने टारगेटिड कस्टमर की समझ होगी। तो आप अपने प्रोडक्ट या सर्विस को उसी के हिसाब से डिजाइन कर पाओगे।

आपने प्रोडक्ट तैयार कर लिया लेकिन आपको यही नहीं पता हो कि आपकी टारगेटिड कस्टमर कौन हैं ऐसे में आपका स्टार्टअप शुरू होते ही फ्लॉप हो जाएगा। इससे आपका कीमती समय और पैसा दोनों बर्बाद होंगे।

मार्केट की जरूरत न समझना

आप जिस भी प्रोडक्ट या सर्विस से संबंधित स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं। पहले आपको मार्केट में रिसर्च करनी होगी। कि उस प्रोडक्ट या सर्विस की मार्केट में डिमांड हैं भी या नहीं। अगर जरूरत हैं तो कितनी हैं।

अगर आप बिना मार्केट रिसर्च किये किसी ऐसे प्रोडक्ट को बना देते हो जिसकी मार्केट में डिमांड ही नहीं हैं। तो आपका स्टार्टअप फ्लॉप हो जाएगा। इसलिए स्टार्टअप शुरू करने से पहले रिसर्च करना बेहद जरूरी हैं।

सिंगल फाउंडर का होना

जब आप किसी स्टार्टअप को शुरू करते हो तो आपको लगता हैं कि सभी काम में अकेले ही करूंगा। ताकि में ज्यादा पैसा बचा सकूँ। आप इससे थोड़े पैसे की बचत तो कर सकते हो लेकिन बड़े लेवल पर आप बहुत कुछ पीछे छोड़ देते हो।

इसलिए अगर आप किसी भी प्रकार का स्टार्टअप शुरू करते हो आपको अपने साथ दूसरे लोगों को भी साथ जोड़ना होगा। जिनका विजन आपकी तरह बड़ा हो। जीतने आपके साथ फॉउंडर होंगे। उनका दिमाग उतना ही ज्यादा इस्तेमाल होगा। क्या पता किसका आइडिया आपको सफल बना दें। अगर आप भी खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं तो इन बातों का ध्यान रखें।

एक्सपर्ट का न होना

अगर आप किसी भी प्रकार के स्टार्टअप को शुरू करते हैं। तो आपके पास या तो उस काम का कोई एक्सपर्ट्स होना चाहिए। या फिर आपको उस काम के बारे में अच्छी जानकारी होनी चाहिए।

अगर आप किसी ऐसे स्टार्टअप के दूसरों के कहने पर इसलिए शुरू कर देते हो कि इसमें अच्छी कमाई हैं तो आप फेल कर जाओगे। इसलिए हमेशा उस काम को शुरू करें। जिसमें आपको अच्छा अनुभव हो। स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं, तो पहले B to B और B to C बिजनेस जैसे शब्दों का मतलब समझ लीजिए

बजट की कमी

किसी भी स्टार्टअप को शुरू करने के लिए सबसे पहली जरूरत पैसे की होती हैं। अगर आपके पास पैसा ही नहीं हैं तो आप स्टार्टअप ही शुरू नहीं कर सकते।

अगर आपके पास बजट नहीं हैं। लेकिन आप स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं तो ऐसे में आपको पहले उस काम को बहुत छोटे स्तर पर शुरू करना होगा। जिससे आप काम का अनुभव लें पाओगे। अपने पास कुछ बजट जोड़ पाओगे। काम के बारें में जितना ज्यादा आप आप जमीनी स्तर पर धक्के खाओगे। उतना ही ज्यादा आप खुद को निखार पाओगे।

कर्ज के पैसे से स्टार्टअप शुरू करने से हमेशा खुद को दूर रखें। आग आपके पास निवेश करने के लिए ज्यादा बजट हैं। तो आप शुरुआत में ही सारा पैसा न लगाएं। शुरुआत हमेशा कम बजट के साथ छोटे स्तर से करें। अगर आपका प्रोडक्ट या सर्विस लोगों को पसंद आने लगें। तब आप अपना निवेश बढ़ा सकते हो। यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्या होता है? भारत कैसे टॉप 3 यूनिकॉर्न देशों में शामिल हुआ।

बहुत ज्यादा अपेक्षा करना

कुछ लोगों को लगता हैं कि स्टार्टअप शुरू होते ही उन पर पैसों की बारिश होने लगेगी। हर जगह लोग उनके स्टार्टअप की चर्चा करेंगे। लेकिन जब स्टार्टअप से उन्हे अपनी इच्छानुसार रिजल्ट नहीं मिलते तो उन्हें निराशा हाथ लगती हैं।

अगर आप कोई भी स्टार्टअप को सफल बनाना चाहते हैं तो उसमें ग्रो होने में समय लगता हैं। अगर शुरुआत में ही सफल हो जाए तो ये आपके लिए अच्छी बात हैं। लेकिन अगर शुरुआत में सफल न हो तो आपको कम से 4 से 5 वर्ष पेशेंस के साथ मेहनत करनी होगी। तभी आप स्टार्टअप से अच्छे रिजल्ट की उम्मीद रख सकते हो। इसे भी पढे :- सोशल मीडिया से मार्केटिंग कैसे करे |

सभी वर्ग के कस्टमर को टारगेट करना

जब आप कोई स्टार्टअप शुरू करते हो तो आप ध्यान केवल प्रोडक्ट या सर्विस सेल करने पर होता हैं। आपको अपने टारगेटिड कस्टमर के बारे में नहीं पता होता। जो भी आपके सामने आता हैं आप उसे ही टारगेट होते हो। आपके

जब हर केटेगीरी का कस्टमर आपका टारगेटिड कस्टमर होता हैं। तो आपको अपने बिजनेस को गो करने के लिए कैसे प्लानिंग करनी होगी। ये एक बड़ी समस्या रहती हैं।

अगर आप एक केटेगीरी के कस्टमर को खुश करते हो दूसरी केटेगीरी के कस्टमर आपके प्रोडक्ट या सर्विस से नाराज हो सकते हैं। ऐसी में स्थिति में आप अपने कस्टमर को खो देते हो। इससे आपका बिजनेस ग्रो नहीं हो पाता हैं। एक सफल बिजनेसमैन कैसे बनें ?

इसलिए जब आप अपना स्टार्टअप शुरू करते हो तो आपको अपने टारगेटिड कस्टमर के बारे में पहले ही पता होना चाहिए। टारगेटिड कस्टमर डिसाइड होने के बाद आपको बिजनेस ग्रोथ करने में आसानी होती हैं।

विज़न की कमी

दुनिया के जीतने भी बड़े बड़े मल्टी मिलेनियर्स या सेलेब्रिटी हो आपने उनके मुहँ से एक शब्द जरूर सुन होगा। “विजन”

अगर आपका अपने स्टार्टअप को लेकर विजन एकदम क्लियर हैं कि आपको अपने स्टार्टअप को किस लेवल तक लेकर जाना हैं। तो आप उसी हिसाब से आगे बढ़ पाओगे।

अगर आपको अपने स्टार्टअप का विजन ही नहीं पता हैं तो आप एक समय के बाद अटक जाओगे। आपके लिए आगे बढ़ना काफी मुश्किल होगा। जिसके कारण आपका स्टार्टअप फैल हो जायेगा। स्टार्टअप आइडिया कैसे सर्च करे?

टीम बिल्डिंग पर ध्यान न देना

एक बात तो तय हैं कि अगर आपको किसी काम को बड़े स्तर पर करना हैं तो आप उस काम में अकेले सफल नहीं हो सकते हैं। आपको अपने साथ कुछ ऐसे दूसरे लोगों को भी जोड़ना होगा। जिनका विजन आपके जैसा हो।

स्टार्टअप की शुरुआत होने के बाद जब आपका बिजनेस ग्रो होने लगता हैं। तो आपको अपने स्टार्टअप को आगे बढ़ाने के लिए एक ऐसी टीम की जरूरत होती हैं। जिनकी सोच और विजन आपके जैसा हो।

कुछ लोग यह गलती करते हैं कि वे सभी काम खुद ही करने की सोचते हैं। वे पैसे की बचत करना चाहते हैं। जिससे काम की स्पीड बढ़ नही पाती है। जिसके कारण स्टार्टअप फैल होने लगता हैं।

इसलिए हमेशा जब भी आपको लगने लगें कि आप काम को कवर नहीं कर पा रहे हो। या ज्यादा काम से आपके ऊपर लोड पड़ रहा हैं। तो ऐसे में एक मजबूत टीम बनाएं।

जल्दबाजी में आकर टीम में गलत लोगों का भी चुनाव न करें। वरना आपको फायदे से ज्यादा नुकसान हो जाएगा। कंपनी/स्टार्टअप के नाम का चुनाव कैसे करें?

लेख में अपने स्टार्टअप के बारे में क्या सीखा

इस लेख में हमने उन युवाओं के लिए एक महत्वपूर्ण जानकारी दी हैं जो भी खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं। इस लेख में हमने युवाओ को स्टार्टअप के असफल होने के कुछ बड़े कारणों के बारें में बताया हैं। ( Startup Failure Reason Hindi ) अगर आप इन गलतियों को करने से बचते हो तो आपका स्टार्टअप सफल हो सकता हैं।

अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई हैं या आपका इस जानकारी को लेकर किसी प्रकार का सवाल हैं। तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

इस जानकारी को अपने उन सभी दोस्तों रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें। जो खुद का स्टार्टअप का शुरू करना चाहते हैं यह जानकारी उनके काफी काम आ सकती हैं।

अगर आप किसी अच्छे बिजनेस आइडिया की तलाश में हैं लेकिन आपके पास आइडिया नहीं हैं तो आप हमारी स्टार्टअप और बिजनेस आइडिया वाली के लेखों को एक बारे में जरूर पढ़ें। इसकी आपकी काफी हेल्प होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here