e learning trends Kya Hai hindi : ई लर्निंग ट्रेंड्स जो ऑनलाइन पढ़ाई को और भी मजेदार बनाते है

e learning trends Kya Hai hindi
e learning trends Kya Hai hindi

कोविड 19 के आने के बाद पढ़ाई करने के तरीके के भी काफी बदल गए है यही कारण है कि अनलाइन लर्निंग तेजी से बढ़ती जा रही है। जिसमे ज्यादा से जायद विधारथियों को जोड़ने के लिए ई लर्निंग कंपनिया नई नई प्रयोग कर रही है। इसलिए कुछ वर्षों तक ई लर्निंग कंपनिया लगातार प्रयोग करती रही है, ताकि वे पहले विधारथियों को ई लर्निंग का महत्व समझ सके और अपने पैड कोर्सज उन्हे बेच सके।

नई नई टेक्नोलॉजी के आने के बाद चीजों को याद करने और उनके कॉन्सेप्ट को समझने मे काफी आसानी होती है। लेकिन अब ई लर्निंग भी अलग अलग हिस्सों मे बांटती जा रही है ताकि यूजर्स को और भी ज्यादा आसानी हो सके।

आज हम आपको इस लेख में ई लर्निंग के कुछ नए ट्रेंड्स के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है। अगर आप भी इसके बारे मे पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो लेख को अंत तक पढ़ें इस लेख मे हम आपको बताने वाले आई कि ई लर्निंग ट्रेंड्स क्या है

ई लर्निंग ट्रेंड्स e learning Trends

पिछले कुछ वर्षों से डिजिटल ई लर्निंग का ट्रेंड्स तेजी से बढ़ा है। लेकिन बदलते समय के अनुसार ज्यादा से ज्यादा यूजर्स पर अपनी पकड़ बनाने के लिए कंपनिया नए नए बदलाव करती रहती है। यही कारण है वर्तमान मे ई लर्निंग की लोकपिरीयता तेजी से बढ़ रही है।

ई लर्निंग में सबसे अहम रोल इंटरनेट और डिजिटल टेक्नोलॉजी का है। ई लर्निंग टेक्नोलॉजी में भी अब युवाओं को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने के लिए बदलाव किए जा रहे है

माइक्रो लर्निंग Micro Learning

किसी भी बात को लोगों को आसानी से समझाने के लिए या निर्देश देने के लिए काफी समय से कुछ चिन्हों या संकेतों का इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन ई लर्निंग की टेक्नोलॉजी आने के बाद यह काम काफी आसान हो गया है, क्योंकि किसी भी टोपिक को समझाने के लिए विडिओ फॉर्मेट बेहद आसान और असरदार है।

यही कारण है कि पिछले कुछ वर्षों मे इंस्ट्रक्टर लेड ट्रैनिंग / ई लर्निंग लोगों को काफी पसंद आ रही है। आजकल ज्यादातर कंपनिया अपने ग्राहकों से जुड़े रहने के लिए माइक्रो लर्निंग तकनीक का इस्तेमाल कर रही है।

इसे भी पढे : – देश के कुछ प्रमुख ई लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म, जहा से आप फ्री मे पढ़ाई कर सकते है

जो कम समय मे ज्यादा जानकारी देने की वजह से बेहतर प्लेटफ़ॉर्म माना जा रहा है। इस तकनीक का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप किसी एक सिंगल टॉपिक पर फोकस करके अपना मॉड्यूल तैयार कर सकते है।

माइक्रो लर्निंग विडियो को यूजर्स के साथ साझा करके उनके साथ जुड़े रह सकते है। जिससे ट्रैनिंग मे होने वाला खर्च और समय दोनों की बचत होती है।

मूक लर्निंग Mooc Learning

मूक लर्निंग को बढ़ावा देने के लिए न केवल डिजिटल ई लर्निंग कंपनिया तेजी से कार्य रही है बल्कि सरकार भी तेजी से इस दिशा मे कार्य कर रही है। आशा करते है कि कंपनिया जल्द ही मेसीव ओपन ऑनलाइन कोर्सज के माध्यम से प्रोफेशनल्स को कंपनी की कार्य प्रणाली करेंगी।

इसे भी जरूर पढे :- विजुअल्स ई लर्निंग क्या है ?

मूक लर्निंग से जहां कंपनियों के ट्रेनिंग पर होने वाले खर्च की बचत होगी, तो दूसरे तरफ युवाओं के लिए भी यह तकनीक काफी फायदेमंद साबित होने वाली है। मूक तकनीक के माध्यम से केवल किसी कोर्स विशेष तक ही नहीं बल्कि आप प्रोफेशनल्स कोर्स जैसे कि स्किल ट्रेनिंग , कम्युनिकेशन स्किल , पर्सनालिटी डेवलपमेंट , इन्सट्रक्शन जैसे टॉपिक पर भी ट्रेनिंग प्राप्त कर सकते है।

इसके अलावा महिलाओ और लड़कियों के लिए सेल्फ सेफ़्टी टिप्स , यौन उत्पीड़न से बचाव इत्यादि के बारे मे भी जानकारी दी जाएगी। यही नहीं आप आईटी क्षेत्र से जुड़े शॉर्ट कोर्स भी आसानी से कर सकते है जैसे कि ग्राफिक्स डिजाइनिंग , ऐप डेवलपमेंट , वेब डिजाइनिंग , कंप्युटर नेटवर्किंग , एमएस एक्सेल , डाटा एंट्री , इत्यादि

आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस Artificial Intelligence

आज के समय मे मनुष्य की सुविधाओ के लिए बनने वाली टेक्नोलॉजी को और भी ज्यादा आसान बनने के लिए आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस का स्वरूप तेजी से बढ़ रहा है। जिसके कारण समय और धन दोनों की बचत होती है।

इसके बारे मे भी जानिए :- ई लर्निंग फ्रॉड से कैसे बचे ?

एएआई तकनीक का इस्तेमाल अलग अलग प्रकार की सर्विसेज मे हो रहा है और आने वाले समय मे यह और भी तेजी से बढ़ेगा।

एआई का इस्तेमाल अलग अलग भाषाओ का अनुवाद करने के लिए भी किया जा रहा है ताकि कंपनियों को कंटेन्ट ट्रांस्लेट करने के परेशानी का सामना न करना पड़े। एआई तकनीक के बाद यह कार्य काफी आसान हो जाएगा। लेकिन कंटेन्ट ट्रांस्लेट होने के बाद वेरीफाई करने के लिए प्रोफेशनलस की मदद लेने पड़ेगी।

एआई तकनीक की खास बात यह भी है कि प्रॉडकटिव टाइपिंग फ़ंक्शंस और वोकेबलरी सजेसन्स जैसे सुविधाये भी उपलब्ध कराती है, ताकि यूजर्स को कम समय मे बेहतर रिजल्ट मिल सके।

ब्लेंडेड लर्निंग Blended Learning

अभी तक ज्यादातर ट्रैनिंग ऑफ़लाइन होती है। जहां पर प्रोफेशनल्स किसी एक जगह इकट्ठा होकर ट्रेनिंग का आयोजन करते है, लेकिन अब बदलते समय के अनुसार ट्रेनिंग के तरीकों में भी काफी बदलाव आया है। इसीलिए आजकल ज्यादातर ट्रेनिंग जूम गूगल मीट के माध्यम से ऑनलाइन हो रही है

इसे भी जरूर पढे :- मोबाईल लर्निंग के फायदे

अब ऐसे में ट्रेनिंग को आकर्षित बनाने के लिए और उसमे प्रोफेशनल्स की रुचि को बरकरार रखने के लिए ब्लेंडेड लर्निंग तकनीक पर तेजी से काम चल रहा है। जिसका रिजल्ट आपको जल्द ही देखने को मिलेगा।

अनलाइन ट्रैनिंग को आकर्षित बनाने के लिए विभिन्न ट्रैनिंग फॉर्मेट का एक साथ इस्तेमाल कर एंगेजमेंट को बढ़ावा दिया जाएगा।

इन्फो ग्राफिक्स और विडियो के माध्यम से प्रोफेशनल्स को कंपनी के बारे मे बताया जा सकता है। नए कर्मचारियों को विडिओ मेसेज के द्वारा कंपनी के वर्किंग कल्चर , सीईओ के संदेश को भेजा जा सकता है। नए कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने के लिए कंपनियों को प्लान तैयार करना पड़ता है जिसके कारण कार्य आसान हो जाता है.

इसे भी जरूर पढे : ई लर्निंग से संबंधित छात्रों के कुछ डाउट जिसके कारण वे ऑनलाइन पढ़ाई करने से डरते है।

लेख में आपने क्या सीखा

इस लेख में हमने आपको ई लर्निंग को आसान बनाने वाले कुछ नए ट्रेंड्स के बारे मे जानकारी शेयर की है ताकि छात्रों को इन तकनीक के बारे में भी पता चल सके। इस लेख में हमने आपको बताया है कि ई लर्निंग ट्रेंड्स क्या है। e learning trends Kya Hai hindi

अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं इस जानकारी को लेकर अगर आपका किसी भी प्रकार का सवाल है तो आप कमेंट के जरिए हमसे पूछ सकते है इस जानकारी को दूसरे छात्रों के साथ भी शेयर करे
ताकि उन्हे भी ई लर्निंग के इन ट्रेंड्स के बारे में पता चल सके। धन्यवाद

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here