Solar AC Kya Hai : एसी ( AC) के महंगे बिजली बिल से बचने के लिए सोलर एसी लगवाये?

Solar AC Kya Hai ultimateguider
Solar AC Kya Hai ultimateguider

अब वो समय नहीं रहा है कि गर्मियों के मौसम मे कूलर और पंखों से काम चल जाए । दुनिया मे बढ़ते हुए प्रदूषण के कारण गर्मी का स्तर लगातार बढ़ता रहा है। जिसके कारण गर्मियों के मौसम में पंखे और कूलर फैल हो जाते हैं।

ऐसे मे लोग अमीर लोग तो ज्यादा गर्मी से बचने के लिए अपने घरों मे एयर कंडीशनर (AC ) लगवा लेते हैं। लेकिन गर्मी का मौसम से बचने के लिए गरीब और माध्यम वर्ग के लोग को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता हैं।

ज्यादातर लोग एयर कंडीशनर (AC ) को इसलिए खरीदने से डरते हैं कि एक तो ये इतनी महंगी आती है लेकिन अगर एक बार इसे खरीद भी ले तो इसका बिल चुकाना हर किसी के लिए संभव नहीं हैं।

ऐसे में अगर आप गर्मी से बचने के लिए अपने घर में एयर कंडीशनर (AC ) लगवाने की सोच रहे है लेकिन इसे चलाने के बाद आने वाले भारी भरकम बिल को देखकर डर लगता है। तो अब आपको इसकी चिंता करने की जरूरत नहीं है।

इस लेख में हम आपकी इस समस्या का समाधान करने वाले है। आप एयर कंडीशनर (AC ) भी चलाओगे लेकिन आपको बिजली खर्च करने की जरूरत नहीं हैं। अगर आप इसके बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो लेख को अंत तक पूरा पढे। हम बात कर रहे है सोलर AC की इस लेख में हम आपको बताने वाले हैं कि सोलर AC क्या है। Solar AC Kya Hai Hindi सोलर AC का लाभ कैसे लें। solar ac ka labh kaise le सोलर AC कैसे लगवाए। solar ac kaise lagwaye, सोलर एसी कैसे खरीदें solar ac kaise kharide

सोलर AC कैसे काम करते हैं।

मार्केट मे अलग अलग प्रकार के सोलर AC मिलते हैं आप जिस भी प्रकार के सोलर AC लगवाना चाहते है। उसी हिसाब से आपके AC मे सोलर प्लेट और बेटरी लगाई जाती हैं। अगर सोलर AC एक टन का है तो आपको एक हजार वाट का सोलर AC मिलेगा। सूर्य की किरणों से सोलर पैनल बैटरी को चार्ज करेगा सूर्य की किरणें जितनी तेज होगी आपकी बैटरी उतनी ही तेजी से चार्ज होगी ।

सोलर पेनल को पावर सॉकेट से जोड़ा जाता हैं। इसी पावर से सोलर AC चलता हैं। अगर आपका सोलर पेनल अधिक बिजली बनाता है तो इससे आप घर की दूसरी छीजे भी चला सकते हैं। जैसे कि लाइट , पंखे , कूलर , फ्रिज इत्यादि क्योंकि सोलर AC केवल गर्मियों के मौसम में ही इस्तेमाल होता है।

बाकी समय मे आप दूसरी चीजें चलाकर बिजली की बचत कर सकते हैं। आप चाहो तो सोलर प्लांट लगाकर बिजली को बेच भी सकते है। ये भी एक बिजनेस आईडीया है अगर आप इसके बारे मे पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप हमारे लेख को पूरा पढ़ें।

सोलर AC बिना बैटरी के भी चलता हैं

सोलर AC बिना बैटरी के भी चल सकता है । बैटरी की जरूरत तब होती हैं जब धूप न हो अब धूप होगी तो सूरज की किरणों से सीधे AC चलेगा। बैटरी की भूमिका इतनी होती हैं कि सोलर पैनल की वजह से बैटरी भी चार्ज होती रहती है बैटरी फुल चार्ज होने के बाद इससे कम से चार घंटे तक सोलर ac चलाया जा सकता हैं। अगर आप इससे अधिक समय तक AC को बैटरी की मदद से चलाना चाहते है तो आपको एक से अधिक बैटरी लगानी होगी। इसे भी जरूर पढे :- AC खरीदते समय किन किन बातों का ध्यान रखे |

सोलर एसी के फायदे

  • मार्केट मे अगर आप सोलर ac खरीदने के लिए जाते हो तो 5 Star रेटिंग वाले डेढ़ टन के spilit ac जो बिजली से चलता है उसकी कीमत लगभग तीस से चालीस हजार रुपये होती है जबकि इसी फीचर वाले सोलर ac की कीमत लगभग 1.20 लाख रुपये तक होती हैं। ऐसे मे लंबे समय के फायदे को देखा जाए तो सोलर ac ही आपके लिए बेहतर हैं।
  • 5 स्टार रेटिंग वाले एसी सोलर पावर और बिजली भी खपत बहुत कम करते हैं। सोलर एसी बिजली वाले एसी की तरह ही काम करता हैं। बस फरक पावर मोड का होता हैं। सोलर एसी सौर ऊर्जा से चलता है।
  • बिजली से चलने वाले एसी इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड से चलते हैं जबकि हाइब्रिड एसी तीन तरीकों से चल सकते हैं। सोलर पावर, सोलर बैटरी बैंक इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड.इलेक्ट्रिक एसी में कंप्रेसर सबसे ज्यादा बिजली की खपत करता हैं इसलिए सौर ऊर्जा से चलने वाले एसी में
  • डीसी एमपीपीटी ड्राइव कंप्रेसर लगा होता हैं। जिसके कारण कंप्रेसर कूलिंग और हीटिंग ऑपरेशन में बिजली की कम खर्च होती हैं।

धूप नहीं तो बिजली नहीं

कई बार ऐसा हो जाता है कि मौसम खराब होने की वजह से कई कई दिनों तक धूप नहीं निलती यही तो क्या ऐसे मे सोलर ac नहीं चल पाएगा। जी हा धूप न होने के बावजूद आपका ac भी बिल्कुल चलेगा। ई कार की डीलिंग में इन बातों का रखें ख्याल

बिजली से लेकिन याद रखे अगर आप ac को बिजली से चलाते हो तो आपका बिजली का बिल पहले से कई गुना बढ़ जायेगा। हालांकि ऐसा बहुत ही कम होता है कि धूप न निकले ।

लेकिन जब धूप नहीं निकलती है इसका मतलब है कि मौसम खराब है । बारिश वाले मौसम ac चलाने की जरूरत बहुत कम होती हैं।

सोलर एसी के फीचर्स

सोलर एसी में वे सभी फीचर मौजूद होते हैं जो फीचर्स बिजली से चलने वाले एसी मे होते हैं जैसे कि ऑटो स्टार्ट , स्लीप मोड , टर्बो कूल मोड , ऑन ऑफ टाइमर , इसके अलावा इसमें डीसी एमपीपीटी ड्राइव कंप्रेसर होता हैं जो कूलिङ्ग व हीटिंग ऑपरेशन में बिजली की खपत कम करता हैं।

सोलर एसी की कंपनियां

मार्केट में सोलर एसी बनाने वाली बहुत सी कंपनियां मौजूद हैं जैसे कि Onyx , Sinfin, Exalta ,Teramax इत्यादि

ये कंपनियां अलग अलग कपीसीटी के हिसाब से सोलर एसी बनाती हैं मार्केट में आपको सोलर एसी एक टन से लेकर 1.5 टन और दो टन तक के मिल सकते हैं। जिनकी कीमत 50 हजार से शुरू होकर दो से ढाई लाख रुपये तक होती हैं। नई कार खरीदने से पहले इन 10 जरूरी बातों को नजरअंदाज बिलकुल न करें वरना हो सकता है नुकसान

सोलर एसी के साथ आपको एसी सोलर पैनल , बैटरी इनवर्टर और इंस्टॉलेशन इत्यादि चीजें भी मिलती हैं। अगर आप बैटरी नहीं लेते हो तो कीमत कुछ कम हो जाती हैं।

सोलर एसी को आप ऑनलाइन और ऑफ़लाइन दोनों मार्केट से आसानी से खरीद सकते हैं।

एसी को ऐसे चलाएंगे तो बिजली बिल कम आएगा

ऐसी खरीदना इतना महगा नहीं है जितना कि उसे चलाने के लिए बिजली का बिल भरना है। क्योंकि बिजली से चलने वाले ऐसी से बिल कई गुना बढ़ जाता हैं।

अगर आपका बिल पहले एक हजार रुपये का आ रहा है तो एसी चलने के बाद वही बिल एक हजार से बढ़कर पाँच से छह हजार तक पहुच जायेगा। जोकि किसी माध्यम वर्ग के लोगों के लिए भरना बहुत भारी हैं।

ऐसे में हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बता रहे हैं जिनको अगर आप फॉलो करते हो तो एसी चलाने के बाद भी आपका बिल कम ही आएगा। पुरानी सेकंड हैंड कार खरीदने जा रहे हैं, तो इन बातों के बारे मे जान लें वरना हो सकता है भारी नुकसान

टेम्परेचर सही रखें ।

एसी को चलाते समय उसका टेम्परेचर सही रखे। एसी का टेम्परेचर जितना कम होगा बिजली को खपत उतनी ही कम होगी। किसी भी कमरे का टेम्परेचर नॉर्मल 24 डिग्री सेल्सियस तक सही रहता हैं। इस टेम्परेचर पर कोई भी कमरा ठंडा हो सकता हैं। ऐसे मे टेम्परेचर कम होने की वजह से बिजली बिल भी कम आयेगा। एसी मे एक एक डिग्री टेम्परेचर बढ़ने से 6 – 6 फीसदी लाइट की खपत होती हैं।

टाइमर जरूर सेट करें।

कई बार लोग रात को सोते समय एसी को चलाकर छोड़ देते हैं जिसके कारण रात को कमरा ठंडा होने के बावजूद भी एसी पूरी रात चलता रहता हैं।

जिससे बिजली बिल भी बढ़ जाता हैं। रात को सोते समय ज्यादा एसी चलने से ठंड भी लगने लगती हैं। इसलिए बेहतर होगा कि सोते समय एसी का टाइमर ऑन कर दें। रूम ठंडा होने बाद रात को एसी खुद बंद हो जायेगा। जिससे बिजली कम खर्च होगी और बिल कम आएगा। इंटरनेशनल बिजनेस मे करियर कैसे बनाए ?

कमरे में कम सामान रखे

जिस भी कमरे मे एसी लगा होता हैं उस कमरे में फालतू का समान रखने से बचे,। इसका कारण है कि जब कमरे मे एसी चलता हैं तो तो वो कमरे में रखे हुए सभी सामानों को ठंडा करता हैं। जिससे कमरे को ठंडा होने मे ज्यादा समय लगता हैं। इससे बिजली की खपत ज्यादा होती है। बिजली बिल बढ़ता हैं।

कमरे मे कम खिड़किया रखें।

जिस कमरे मे जितना कम खिड़किया होगी उस कमरे को एसी से ठंडा होने मे उतना ही कम समय लगेगा।

कमरे मे ज्यादा खिड़किया होने से सूरज की किरणे कमरे मे ज्यादा जाती हैं। जिससे कमरे मे गर्मी मे ज्यादा रहती है। इसलिए ज्यादा खिड़कियों वाले कमरे को ठंडा होने मे काफी समय लगता हैं।

इसलिए एसी लगवाते समय हमेशा ध्यान रखे कि ऐसी हमेशा उसी कमरे मे लगवाए जिसमे कम खिड़किया हो और सूरज की तपन कम रहती हो।

लेकिन अगर ऐसा करना संभव नहीं है तो खिड़कियों को इंसुलेटेड जरूर कर लेना चाहिए। ताकि सूरज का कमरे पर कम प्रभाव पड़े खिड़कियों को इंसुलेटेड करने के लिए इसके ऊपर इंसुलेटेड फिल्म चढ़ाई जाती हैं। जिसे आप ऑनलाइन और ऑफ़लाइन दोनों तरीकों से खरीद सकते हैं। इसे भी जरूर पढे : प्लास्टिक इंजीनियर कैसे बने ?

तीन मीटर लंबाई और बीस इंच चौड़ाई वाली फिल्म तकरीबन 500 से 700 रुपये तक मिलती हैं। ऐसा करने से कमरे को ठंडा होने मे ज्यादा समय नहीं लगेगा जिससे बिजली की खपत कम होगी। और बिल भी कम आएगा।

एसी की सर्विस जरूर करवाएं

अगर आपके घर में पहले से एसी लगा हुआ है तो गर्मी में पहली बार उसे चलाने से पहले एसी की सर्विस जरूर करवा लें क्योंकि काफी समय से बंद एसी में काफी धूल मिट्टी के कण भरे रहते है,जिससे एसी को चलाने में काफी दिक्कत होती हैं। इसे भी जरूर पढे : पैकेजिंग इंडस्ट्री मे करियर कैसे बनाए।

एसी की सर्विस करवाते समय फ़िल्टर को अच्छी तरीके से साफ करवाए। अगर ऐसी दस वर्ष या उससे ज्यादा पुराना है तो उसे बदल दें ज्यादा पुराने एसी मे बिजली की खपत ज्यादा होती हैं। इसके अलावा जिस कमरे मे फ्रिज रखा हुआ हो उसमे एसी न लगाए। क्योंकि फ्रिज चलने से काफी गर्मी होती है। जिससे कमरे को ठंडा होने मे काफी समय लगता हैं ।

इनवर्टर एसी लगवाए

अगर आप पहली बार नया एसी खरदीने की सोच रहे हैं तो महंगे बिल से बचने के लिए इनवर्टर एसी खरीदे इनवर्टर मे एसी मे ऐसी मोटर का इस्तेमाल किया जाता हैं। जो टेम्परेचर के हिसाब से कंप्रेसर की स्पीड को कम या ज्यादा कर सकते हैं। इसे भी जरूर पढे : मौसम विभाग मे करियर कैसे बनाए।

ये कंप्रेसर को ऑफ नहीं होने देते जब कमरे के सेट टेम्परेचर पर कूलिङ्ग पहुच जाती हैं तो कंप्रेसर बंद नहीं होता हैं। बल्कि इसकी स्पीड अपने आप कम हो जाती हैं।

जब कमरे का टेम्परेचर बढ़ जाता हैं तो कंप्रेसर अपनी परफ़ोर्मेंस बढ़ा देता है । इससे कंप्रेसर ऑन होते समय जो बिजली खर्च होती है वह बच जाती हैं। इंवर्टर बेस्ड एसी की कीमत नॉर्मल एसी सी तकरीबन पाँच से दस हजार रुपये ज्यादा होती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here