Quantum Technology Kya Hai Hindi : क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी सुपर कंप्युटर और आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस को पीछे क्यों छोड़ देगी।

quantum technology kya hai hindi
quantum technology kya hai hindi

टेक्नोलॉजी का क्षेत्र लगातार बढ़ता जा रहा है आगे और कितना बढ़ेगा किस प्रकार की नई नई टेक्नोलॉजी आएगी। अभी वर्तमान मे इसका अंदाजा और कल्पना कर पान काफी मुश्किल काम है। अलग अलग क्षेत्र मे लगातार बढ़ रही टेक्नॉलजी की के कारण इंसानों के काम करने की जगह अब मशीनों ने ले ली है। जिस को करने मे इंसान की महीनों साल लगा देता है।

वे कार्य आज के समय मे समय मे मशीनों के द्वारा कुछ भी घंटों मे कर दिए जाते है यही कारण है की आज के समय मे किसी भी प्रकार का क्षेत्र को सब जगहों पर कंप्युटर पर इस्तेमाल किया जाता है।

ऐसे मे आप देख सकते है की टेक्नोलॉजी का क्षेत्र कितनी तेजी से आगे बढ़ रहा है हर दिन किसी न किसी टेक्नोलॉजी का आविष्कार हो रहा है वर्तमान मे कंप्युटर से जुड़ी हुई एक और नई टेक्नोलॉजी ट्रेंड मे है जिस पर तेजी से काम हो रहा है।

हम बात कर रहे है क्वांटम टेक्नोलॉजी Quantum Technology की कुछ लोगों के लिए यह नाम नया हो सकता है अगर आप इस टेक्नोलॉजी के बारे मे नहीं जानते है तो इस लेख को पूरा पढे इस लेख मे हम आपको क्वांटम टेक्नोलॉजी के बारे मे डीटेल मे समझाने वाले है इस लेख मे हम आपको बताने वाले है क्वांटम टेक्नोलॉजी क्या है और यह भविष्य मे किस प्रकार मददगार होगी।

Quantum Technology

अगर आपने स्कूल मे फिजिक्स अच्छे से पढ़ी होगी तो क्वांटम का नाम आपने जरूर सुन होगा ऐसे मे आप अंदाजा लगा सकते है की यह टेक्नोलॉजी फिजिक्स, और कंप्युटर को मिलकर बनाई गई।

वर्तमान मे सबसे पहले क्वांटम कंप्युटर गूगल के द्वारा बनाया गया है जब गूगल से इस कंप्युटर का टेस्ट किया तो इसने के बड़े ही कठिन सवाल को तीन मिनट 20 सेकंड मे हल कर दिया है जबकि ऐसा माना जा रहा है इसई सवाल को वर्तमान के दुनिया के सबसे बड़े कंप्युटर सुपर कंप्युटर से हल करने मे लगभग 10 हजार साल तक लग सकते थे ऐसे मे आप अंदाजा लगा सकते है कि इस कंप्युटर की स्पीड कितनी तेजी होगी।

वर्तमान समय मे जो फास्ट लैपटॉप और कंप्युटर आम आदमी इस्तेमाल करते है ये क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी के सामने कुछ मायने नहीं रखते है।

क्वांटम कंप्युटर की शुरुआत

Quantum Computer Technology पर लगभग 40 वर्ष पहले से काम चला हुआ है लेकिन अभी तक इस टेक्नोलॉजी का सैन्टिस्ट को फाइनल रिजल्ट नहीं मिला है इस टेक्नोलॉजी की नीव एगरोन नेशनल लैब मे पल बेनीऑफ के द्वारा वर्ष 1981 मे रखी गई थी तब इस इस काम चला हुआ है।

वैज्ञानिक ने फिजिक्स की क्वांटम थियोरी को ध्यान मे रखते हुए कंप्युटर बनाने मे लगे हुए है 1981 मे क्वांटम थ्योरी पर काम शुरू होने के बाद लगभग 4 वर्ष तक इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया।

उसके बाद 1984 मे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के डेविट ड्यूश ने इस खोज को आगे बढ़ाया और इस पर रिसर्च शुरू की लेकिन वर्तमान समय मे अब इस टेक्नोलॉजी पर तेजी से काम चल रहा है ऐसा माना जा रहा है की आने वाले 2 से 3 वर्षों मे आप इस टेक्नोलॉजी से बने हुए डिवाइस देख सकते है।

क्वांटम टेक्नोलॉजी पर अमेरिका चाइना , रूस , जापान भारत जैसे देश के साथ गूगल , माइक्रोसॉफ्ट आईबीएम जैसी आईटी टेक्निकल के क्षेत्र की कंपनिया काम कर रही है।

इसे भी जरूर पढे :- इलेक्ट्रिक वाहन तकनीक क्या है ?

क्वांटम थ्योरी क्या है

क्वांटम का नियम वर्ष 1900 मे मेक्स प्लैंक ने ऊर्जा तथा मेटर पदार्थ को समझने के लिए क्वांटम थ्योरी का निर्माण किया था इसके आधार पर ही अणुओ व उससे भी छोटे तत्वों जैसे की फ़ोटॉन प्रोटॉन इत्यादि का अध्ययन किया जाता है इसके अनुसार ये छोटे कण एक साथ ही ऊर्जा व पदार्थ का रूप ले सकते है।

इस थ्योरी के आधार पर ही आज मल्टी वर्स की ब्रह्मांड की आवधारणा दी गई है इस थ्योरी को इस तरह भी समझा जा सकता है एक ही घटना का अलग अलग ब्रह्मांडो मे अलग अलग परिणाम हो सकता है इसे ही क्वांटम नियम कहा जाता है।

इसे भी पढे :- ई प्लेन तकनीक क्या है

क्वांटम कंप्युटर Quantum Computer केवल तेज गति से काम करने तक ही सीमित नहीं है। इस टेक्नोलॉजी की मदद से हम ऐसी खोज भी कर सकते है जिनकी कल्पना कर पाना हमारे लिए नामुमकिन है वर्तमान समय के सबसे तेज सुपर कंप्युटर केवल बुनियादी अणुओ का विश्लेषण करते है जबकि क्वांटम कंप्युटर अणुओ का उपयोग उन्हे समझने की कोशिश के दौरान ही कर सकते है।

क्वांटम तकनीक क्या है

  • Quantum Computer Technology इस प्रकार की टेक्नोलॉजी है जिसकी माध्यम से बड़े से बड़े डेटा और इनफॉर्मेशन को कुछ ही सेकंडस मे निकाला जा सकता है।
    जिस काम को आपको वर्तमान के फास्ट कंप्युटर या लैपटॉप से करने मे कई घंटे लग जाते उसे क्वांटम कंप्युटर से करने मे आपको कुछ ही मिनट या सेकंडस लगेंगे।
  • इस तकनीक के शुरू होने से भविष्य मे आने वाली और भी नई नई टेक्नोलॉजी की खोज करना और भी आसान हो जायेगा
  • वर्तमान के सबसे फास्ट सुपर कंप्यूटर को जिन गणितीय गणनाओ को करने मे हजारों वर्षों तक का समय लग सकता है उसे क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी से लेस कंप्युटर से करने मे कुछ ही मिनट लगते है।
    क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी शुरू होने से आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस को काफी मदद मिलेगी।
  • बैंकों एजुकेशन , ट्रांसपोर्ट रेलवे , एयरपोर्ट , स्टेट , केंद्र मेडिकल मार्केट इत्यादि बड़े बड़े क्षेत्रों मे डेटा और इनफॉर्मेशन का बहुत ज्यादा काम होता है ऐसे मे जिसे वर्तमान के सुपर कंप्युटर से हल करने मे काफी समय लग जाता है ऐसे मे क्वांटम कंप्युटर की मदद से इस प्रकार के कार्य बहुत तेजी से किए जा सकते है।
  • इस टेनोलॉजी की मदद से नई नई खोज करना मेडिकल क्षेत्र मे तेजी लाना दवाइयों को सस्ते रेटों पर तैयार करवाना सोलर पेनल टेक्नोलॉजी , का विस्तार करना और इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए यह टेक्नोलॉजी काफी मददगार साबित होने वाली है।
  • यह तकनीक अल्जाइमर बीमारी का इलाज खोजने मे भी मदद कर सकती है।
  • शेयर मार्किट मे भी डेटा और इनफॉर्मेशन के अलावा ट्रेडिंग संबंधी मामलों मे भी क्वांटम टेक्नोलॉजी काफी उपयोगी साबित होगी।
  • इसके अलावा देश की सुरक्षा से जुड़े हुए मामलों मे भी यह तकनीक खुफिया एजिंसी की काफी मदद करेगी इसकी सहायता से खुफिया एजेंसी एक बड़ी संख्या मे एन्क्रिप्टेड डेटा को ट्रेक करने मे इसका इस्तेमाल कर सकती है।

इसे पढे :- डीप लर्निंग तकनीक क्या है

क्वांटम कंप्युटर बनाने मे आने वाली सबसे बड़ी समस्या

  • क्वांटम कंप्युटर Quantum Computer को बनाया तो जा सकता है लेकिन उसे बनाने के लिए कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना होगा।
  • क्वांटम कंप्युटर परम शून्य -273.15 डिग्री सेल्सियस तापमान पर ही काम करता है ऐसे मे सब जगह का इतना कम तापमान ही ऐसा असंभव प्रतीत होता है।
  • क्वांटम कंप्युटर बनाते समय प्रोग्रामिंग का पर भी खास ध्यान रखा जायेगा जरा से प्रोग्रामिंग मे गलती होने पर पूरा कंप्युटर ब्लास्ट कर सकता है।
  • अगर इस कंप्युटर को बनाते समय आपसे प्रोग्रामिंग मे जरा से भी चूक हो जाती है तो आपको रिजल्ट बिल्कुल भी सही नहीं मिलेंगे और जानकारी न होने पर आपको बड़ा नुकसान भी हो सकता है।
  • क्वांटम कंप्युटर आने वाले भविष्य को एक नया स्वरूप दे सकता है ऐसे मे जरूरी है की सभी देशों को इस टेक्नोलॉजी पर मिलकर काम करना चाहिए।

इसे भी पढे :- 5 जी टेक्नोलॉजी क्या है ?

क्वांटम टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है

Google की एक रिपोर्ट के अनुसार क्वांटम टेक्नोलॉजी प्रोसेसर की टेक्निक क्वांटम बिट्स या क्यूबिट्स आधार पर कार्य करती है यह तकनीक पहले डेटा वैल्यू को मॉडर्न कम्प्यूटिंग लेंगवेज की तरह जीरो और वन की वैल्यू मे रजिस्टर करते है।

क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी कंप्युटर , फीजिक्स और इंजीनियरिंग के जुड़े हुए नियमों पर आधारित टेक्नोलॉजी है जो क्वांटम फिजिक्स के नियमों पर कार्य करती है।

इसे भी जरूर पढे :- मोबाइल रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाये

अगर हम Quantum Technology के व्यावहारिक अनुप्रयोग के बारे में बात करें तो क्वांटम कंप्यूटिंग,क्वांटम मेट्रोलॉजी और क्वांटम इमेजिंग – क्वांटम यांत्रिकी, विशेष रूप से क्वांटम एनटैंगलमेंट, क्वांटम टनलिंग, क्वांटम क्रिप्टोग्राफी, क्वांटम सिमुलेशन, क्वांटम सुपरस्पेशलिटी और क्वांटम सेंसर,के गुणों पर आधारित है।

वर्तमान मे इस टेक्नोलॉजी पर आईबीएम माइक्रोसॉफ्ट गूगल और इंटेल जैसी बड़ी बड़ी टेक कंपनियां काम कर रही है।

क्वांटम टेक्नोलॉजी, आर्टिफिश‍ियल इंटेलीजेंस से आगे है

अभी हमारे देश मे आर्टिफिशल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी artificial intelligence का सही तरीके से इस्तेमाल होना शुरू भी नहीं हुआ कि इसे बड़ी एक और नई क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी आ गई है जिसे अब तक की टेक्नोलॉजी की सबसे बड़ी खोज माना जा रहा है।

इसे भी जरूर पढे : डिजिटल बैंकिंग क्या है

यही कारण है की Quantum Technology को एआई टेक्नोलॉजी से भी बड़ी टेनोलॉजी माना जा रहा है दुनिया के बड़े बड़े वैज्ञानिक और इंजीनियर क्वांटम टेक्नोलॉजी को कंप्युटर के जरिए इस्तेमाल करने की खोज मे लगे हुए है। क्वांटम कंप्यूटर बन जाने के बाद यह कंप्युटर के क्षेत्र मे अब तक की सबसे बड़ी खोज होगी।

क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी का भविष्य

Quantum Computer Technology का इस्तेमाल आने वाले भविष्य मे अलग अलग क्षेत्रों मे किया जायेगा।

  • लॉकहीड मार्टिन एयर जेट विमान से जुड़े हुए एक बड़े प्रोजेक्ट पर कार्य कर रहे है उनका मानना है की इस टेक्नोलॉजी के माध्यम से वे जेट विमानों के सॉफ्टवेयर का परीक्षण आसानी से कर सकते है जिसके कारण विमानों को सुरक्षित तरीकों से डिजाइन भी किए जा सकते है इससे काफी समय की बचत होगी।
  • क्वांटम कंप्यूटर टेक्नोलॉजी पर आधारित टेलिस्कोप की मदद से वैज्ञानिक असीमित दूरी तक देखकर डेटा का विश्लेषण कर सकेंगे।
    इस टेक्नोलॉजी के माध्यम से नए ग्रहों पर जाने के रास्ते खोजना आसान हो जायेगा।
  • क्वांटम टेक्नोलॉजी की मदद से मौसम की सटीक भविष्यवाणी करना सरल होगा
    इस टेक्नोलॉजी की मदद से देश के अंदर होने वाले चुनावों मे भी मदद मिलेगी इससे उम्मीदवार और राजनीतिक पार्टियों के विचारों के आधार पर वोटर को अपना उम्मीदवार समझने मे आसानी होगी
  • कंप्युटर आधारिक इस क्वांटम टेक्नोलॉजी की मदद से यह पता लगाने मे आसानी से होगी शरीर मे केन्सर किस प्रकार फैलता है जिससे बीमारी जल्द पकड़ मे आ जायेगी
  • क्वांटम टेक्नोलॉजी की मदद से डीएनए डेटा के विश्लेषण और अमीनो एसिड की मैपिंग से डॉक्टर बीमारियों पर असर डालने वाली दवाइयों को खोज सकेंगे
  • गूगल क्वांटम कंप्यूटर टेक्नोलॉजी की मदद से एक ऐसा सॉफ्टवेयर बना रहा है जिससे कार बिना ड्राइवर के सड़कों पर दौड़ सकेगी कार को रास्ते मे आने वाली रुकावटों के बारे मे संकेत मिलता रहेगा और कार अपना रास्ता खुद ब खुद बनाकर अपनी मंजिल तक पहुच सकेगी

इसे भी जरूर पढे :- कंप्युटर साइंस इंजीनियर कैसे बने।

लेख मे आपने क्या सीखा

दोस्तों इस लेख मे हमने आपको क्वांटम कंप्युटर टेक्नोलॉजी के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी दी है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस तकनीक के बारे मे पता चल सके क्योंकि जरूरी नहीं है की आप किसी तकनीक का इस्तेमाल करो तभी उसके बारे मे जानकारी प्राप्त करो जानकारी कही पर भी काम आ सकती है इसलिए जब भी आपको किसी प्रकार की नई नई जानकारी मिले उसके बारे मे पढ़ो

इस लेख मे हमने आपको बताया है की क्वांटम कंप्युटर क्या क्वांटम कंप्युटर की शुरुआत कैसे हुई क्वांटम कंप्युटर कैसे काम, करता है क्वांटम कंप्युटर का भविष्य क्या है इत्यादि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here