Career Options After 12th Science PCM Hindi : बारहवीं Science PCM से करने के बाद विधारथियों के लिए टॉप करियर विकल्प

Career Cptions Cfter 12th Science PCM Hindi
Career Cptions Cfter 12th Science PCM Hindi

बारहवीं साइंस स्ट्रीम से करने के बाद युवाओ के मन में सबसे पहले डॉक्टर या फिर इंजीनियर बनने के ही ख्याल आता हैं। बारहवी साइंस स्ट्रीम से करने के बाद युवाओ के लिए डॉक्‍टर , इंजीनियर के अलावा ऐसे बहुत से करियर ऑप्शन मौजदू हैं। जिनके बारें में बहुत कम लोगों को जानकारी होती हैं। साइंस स्ट्रीम एक बहुत बड़ा क्षेत्र हैं।

जिससे अनेकों करियर जुड़े हुए हैं। लेकिन उन करियर विकल्प के बारें में लोगों को सही जानकारी नहीं होती है। जिसके कारण बहुत कम युवा ही इन करियर का चुनाव कर पाते हैं। ऐसे में अगर आपने साइंस स्ट्रीम पीसीएम से अपनी बारहवी की पढ़ाई पूरी की हैं तो यह लेख आपके लिए महत्वपूर्ण हैं। इस लेख मे हम आपको साइंस स्ट्रीम पीसीएम से जुड़े हुए कुछ टॉप करियर विकल्प ( Career Options After 12th Science PCM Hindi ) के बारें में जानकारी देने वाले हैं

Career Cptions after 12th Science PCM

यदि आपने बारहवी की पढ़ाई Science Stream PCM से की हैं। यहाँ पर PCM का मतलब (Physics, Chemistry and Mathematics) से हैं। तो आपके लिए इंजीनियरिंग के अलावा भी ढेरों करियर विकल्प मौजदू हैं। जिन्हे आप अपनी पसंद को अनुसार चुनकर करियर बना सकते हैं।

आप इन करियर विकल्प का चुनाव करने से पहले उसके बारें में गहरी रिसर्च करें कि आप जिस भी करियर का चुनाव करने जा रहें क्या उस करियर पर आप अपनी पकड़ बना सकते हैं। क्योंकि हर करियर हर व्यक्ति के लिए नहीं होता हैं। प्रत्येक विधार्थी की अपनी स्ट्रेंथ होती हैं। कभी भी दूसरे विधारथियों के चक्कर में आकर अपने करियर का चुनाव न करें। वरना बाद में आपको परेशानी हो सकती हैं।

नैनो-टेक्नोलॉजी

ग्लोबल मार्केट में नैनो टेक्नोलॉजी लगातार बढ़ती जा रही हैं। जिसके कारण इस क्षेत्र में युवाओ के लिए के लिए करियर के नए नए अवसर भी खुल रहे हैं। वर्तमान में इस नैनो टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में लगभग 10 से 20 लाख प्रोफेशनल्स की जरूरत हैं।

इस क्षेत्र में रुचि रखने वाले युवा नैनो टेक्‍नोलॉजी में बीएससी या फिर बीटेक इन नैनो टेक्‍नोलॉजी में डिग्री करके मास्टर्स डिग्री प्राप्त करने के लिए एमएससी या एमटेक सकते हैं।

स्पेस साइंस

स्पेस साइंस का क्षेत्र काफी बड़ा हैं। इसमें भी अलग अलग प्रकार के फील्ड आते हैं। जिसमें युवाओं के लिए करियर के नए नए अवसर खुल रहे हैं। जैसे की कॉस्मोलॉजी, स्टेलर साइंस, प्लेनेटरी साइंस, एस्ट्रोनॉमी ,

अगर किसी छात्र की रुचि साइंटिस्ट बनने या फिर स्पेस में करियर बनाने की है तो वो इस स्पेस साइंस के क्षेत्र में बीएससी या फिर बीटेक कर सकता हैं। आप चाहो तो इसरो बेंगलुरु स्थित IISC में पीएचडी तक के कोर्सेज भी कर सकते हैं।

एस्ट्रो-फिजिक्स

जिन छात्रों को सितारों और गैलेक्सी में रुचि हैं। ऐसे छात्र बारहवीं करने के बाद एस्ट्रो-फिजिक्स में अपना करियर बना सकते हैं। यही नहीं आप इस क्षेत्र में पांच वर्ष के रिसर्च ओरिएंटेड प्रोग्राम (एमएस इन फिजिकल साइंस) और चार या तीन साल के बैचलर्स प्रोग्राम (बीएससी इन फिजिक्स) जैसे कोर्स कर सकते हैं।

एस्ट्रोफिजिक्स में डॉक्टरेट की डिग्री लेने के बाद विद्यार्थी इसरो जैसे रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन में साइंटिस्ट बनकर अपनी सेवाएं दे सकते हैं।

एनवायर्नमेंटल साइंस

एनवायर्नमेंटल साइंस का क्षेत्र पर्यावरण से जुड़ा हुआ हैं। इस क्षेत्र में युवाओं को पर्यावरण से जुड़े हुए विषय पढ़ाया जाते हैं। जैसे कि इकोलॉजी, डिजास्टर मैनेजमेंट, वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट, पॉल्यूशन कंट्रोल इत्यादि जिन विद्यार्थियों को पर्यावरण में रुचि हैं।

वे छात्र बारहवीं के बाद एनवायर्नमेंटल साइंस में बीएससी या बीटेक करके अपना करियर बना सकते हैं। इस क्षेत्र में युवाओं के लिए जॉब के अवसर हमेशा खुले रहते हैं।

वॉटर साइंस

वॉटर साइंस जल से जुड़ा हुआ एक विज्ञान हैं। जिसमे युवाओ को जल से जुड़े हुए विषयों के बारें में पढ़ाया जाता हैं। जैसे की हाइड्रो मेटियोरोलॉजी, हाइड्रोजियोलॉजी, ड्रेनेज बेसिन मैनेजमेंट, वॉटर क्वालिटी मैनेजमेंट, हाइड्रो इंफॉर्मेटिक्स

वाटर साइंस में रुचि रखने वाले छात्र बीएससी इन वॉटर साइंस या फिर बीटेक कर सकते हैं। हिमस्खलन और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं को देखते हुए इस क्षेत्र में रिसर्चर्स की काफी डिमांड बनी रहती हैं।

रोबोटिक साइंस Robotic Science Engineering Course Hindi

पिछले चार , पाँच वर्षों से रोबोटिक साइंस का क्षेत्र भी तेजी से ग्रो हो रहा हैं। रोबोटिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल अलग अलग क्षेत्रों में काम में तेजी लाने के लिए किया जा रहा हैं । जैसे की हार्ट सर्जरी, कार असेम्बलिंग, लैंडमाइंस, ऑटोमोबाइल सेक्टर , इत्यादि।

जिस भी छात्र को रोबोटिक टेक्नोलॉजी में रुचि हैं। वे छात्र बारहवीं के बाद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स, एडवांस रोबोटिक सिस्टम. कम्प्यूटर साइंस इत्यादि कोर्स में डिग्री लेकर रोबोटिक साइंस के क्षेत्र में करियर बना सकते हैं।

B.Sc in Honors

बारहवीं साइंस पीसीएम से करने के बाद आप बीएससी ऑनर्स भी कर सकते हैं। ये एक ग्रेजुएशन डिग्री हैं। ये डिग्री उन छात्रों के लिए बेहतर हैं जो साइंस के किसी एक कोर्स में मास्टर्स हासिल करना चाहते हैं। जैसे कि BSc Physics, BSc Computer Science, BSc Chemistry, BSc Biology, BSc Mathematics इत्यादि.

BCA (Bachelor of Computer Application)

जिन छात्रों की रुचि कंप्यूटर हैं । वे कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री में अपना करियर बनाना चाहते हैं। ऐसे छात्र बारहवीं साइंस पीसीएम से करने के बाद बीसीए कि डिग्री लें सकते सकते हैं।

जहां पर छात्रों को अलग लग प्रकार के अनेकों प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ( C, C++, HTML, Java , etc ) web technology। software engineering, computer architecture, operating systems, database management systems इत्यादि जैसे विषये पढ़ाए जाते हैं।

बीसीए करने के बाद आप एमसीए करके मास्टर्स कर सकते हो।

इंजीनियरिंग कोर्स Engineering Course Hindi

साइंस से बारहवीं करने वाले ज्यादातर छात्रों के पसंद डॉक्टर या इंजीनियर बनाने की होती हैं। साइंस पीसीबी की डॉक्टर साइंस पीसीएम की इंजीनियर

अगर आप भी बारहवीं साइंस पीसीएम से करने के बाद इंजीनियरिंग करना चाहते हैं तो आपके सामने इंजीनियरिंग में भी अनेकों विकल्प हैं। जिनका चुनाव करना छात्रों के लिए काफी मुश्किल होता हैं।

इंजीनियरिंग में करियर बनाने के लिए पहले छात्रों को जेईई मेन क्लियर करना होगा। उसके बाद ही आप अपनी पसंद से इंजीनियरिंग के क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं।

हम आपको इंजीनियरिंग के कुछ बड़े क्षेत्र बता रहे हैं। जहां पर छात्रों के लिए करियर की अपार संभावनाएं हैं।

  1. केमिकल इंजीनियर Chemical Engineering
  2. सिविल इंजीनियर Civil Engineering
  3. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग Electronics Engineering
  4. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग Automobile Engineering
  5. मैकेनिकल इंजीनियरिंग Mechanical Engineering
  6. कंप्यूटर साइंस Computer Science Engineering
  7. इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग Electronics & Communication Engineering
  8. एयरोस्पेस इंजीनियरिंग Aerospace Engineering
  9. पेट्रोलियम इंजीनियरिंग Petroleum Engineering

BBA (Bachelor Of Business Administration)

अगर आप बिजनेस सेक्टर , सेल्स सेक्टर में करियर बनाना चाहते हैं तो आप बारहवीं साइंस पीसीएम से करने के बाद बीबीए मैनेजमेंट कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। इस कोर्स में छात्रों को मार्केटिंग , सेल्स , अकाउंट , बिजनेस इत्यादि के हुनर सिखाए जाते हैं।

इस कोर्स को करने के बाद आप या तो खुद का बिजनेस शुरू कर सकते हो या बड़ी बड़ी कंपनियों में मार्केटिंग एक्सपर्ट्स बन सकते हो। अगर आप बीबीए करते हो तो उसके बाद एमबीए ( Master Of Business Administration Course ) की डिग्री भी जरूर लें। इससे आपके लिए करियर के अनेकों अवसर खुलेंगे।

लेख में आपने क्या सीखा

इस लेख में हमने आपको साइंस स्ट्रीम पीसीएम से जुड़े हुए करियर विकल्प (Career Options after 12th Science PCM Hindi ) के बारें में जानकारी दी हैं। अगर आपने बारहवी की पढ़ाई Science PCM से की हैं तो आप इन करियर विकल्प में से कोई एक विकल्प चुनकर अपना करियर संवार सकते हैं।

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई हैं तो आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं। इस जानकारी को लेकर अगर आपका किसी प्रकार का कोई सवाल हैं हैं तो कमेंट करके पूछ सकते हैं। इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें ताकि उन्हे भी इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here